किसने जलाया ‘बनारस हिंदू विश्वविद्यालय’ ?

0
114

अमित तोमर  : कल रात लगभग 12 बजे BHU में अचानक पेट्रोल बम चलने लगे। सुरक्षा में लगी पुलिस पर ज़बरदस्त पत्थरबाजी होने लगी। पुलिस ने अपने ऊपर हुए हमले का उचित प्रतिउत्तर दिया और हमलावरों पर बढ़िया लाठियां भांजी। अंतः वही हुआ जिसके लिए इस आंदोलन की पटकथा लिखी गयी थी। रात से ही मीडिया योगी सरकार पर “दमनकारी” होने का आरोप मढ़ने लगी, वामपंथी और विपक्ष के नेता संघ पर हमला बोलने लगे। मानो हर कोई अपना सटीक किरदार निभा रहा हो।

किसी ने नही पुछा की पुलिस पर पत्थर और पेट्रोल बम किसने फैंके, किसने सरकारी संपत्ति और वाहनों को जलाया, वो कौन थे जिन्होंने ये पूरी स्क्रिप्ट लिखी थी।

गुरुवार की शाम 7 बजे मोटर साइकिल सवार कुछ युवकों ने BHU में फाइन आर्ट की प्रथम वर्ष की छात्रा से छेड़ छाड़ की, आरोप है कि छात्रा के कपड़े तक फाड़ने का प्रयास किया गया। इतनी घिनोनी हरकत पर भी किसी ने पुलिस को सूचित करना आवश्यक नही समझा जबकि पुलिस थाना महज कुछ 200 मीटर दूर था। इतनी संवेदनशील घटना को राजनैतिक रूप दिया गया। अगले दिन प्रधानमंत्री का दौरा था। फिर क्या था वामपंथी संगठनों ने इस अवसर को भुनाने में कोई कसर नही रखी। 2 दिन तक जमकर राजनीती हुई कारण केवल एक – BHU कुलपति संघ पृष्ठभूमि से है। माँगो और आंदोलन की आढ़ में हमला संघ पर साधा गया।
कल शाम जब प्रधानमंत्री का दौरा खत्म हो गया तो हताश वामपंथियों ने पुलिस और सरकारी संपत्ति को निशाना बनाया।सैंकड़ो की संख्या में अराजक तत्वों ने पेट्रोल और देसी बम फैंके, वाहनों को आग लगा दी गयी।पुलिसकर्मियों को हमले में गंभीर चोटें आई पर मीडिया के कैमरो ने इस नंगी अराजकता को दिखाना उचित नही समझा क्योकि चुटैल पुलिस को दिखा TRP नही मिलती।

बहरहाल अच्छी कहानी, अच्छा स्क्रीनप्ले, अच्छे डायलॉग और अच्छा निर्देशन।

Leave a Reply