Category Archives: पंजाब

संघ सिख धर्म व मर्यादाओं का सम्मान करने वाला संगठन : बृजभूषण सिंह बेदी

जालंधर, 18 मई 2018 : भारत भारती प्रकाशन की पुस्तकों में सिख गुरुओं व इतिहास संबंधी पैदा किए जा रहे विवाद को आधारहीन दुष्प्रचार बताते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने बयान जारी कर पूरी स्थिति से अवगत करवाया है। संघ ने मीडिया व राजनेताओं के एक वर्ग से आग्रह किया है कि वह संवेदनशील मुद्दों पर गैर-जिम्मेवाराना टिप्पणी करने से बचें। 
संघ के पंजाब प्रांत संघचालक स. बृजभूषण सिंह बेदी ने कहा है कि आरएसएस सिख धर्म, मर्यादाओं व इतिहास का सम्मान करने वाला संगठन है।
 
प्रेस को जारी विज्ञप्ति में स. बेदी ने कहा कि पुस्तक में दशम पिता श्री गुरु गोबिंद सिंह जी को लेकर स्वामी विवेकानंद जी द्वारा व्यक्त जिन विचारों पर विवाद पैदा करने की कोशिश हो रही है वे स्वामी जी द्वारा लाहौर में दिए गए भाषण के अंश हैं। स्वामी विवेकानंद जी जब लाहौर आए तो उन्होंने युवाओं को देश की स्वतंत्रता व सामाजिक एकता के लिए संगठित होने की अपील करते हुए श्री गुरु गोबिंद सिंह जी को अपना आदर्श बनाने को कहा था। 
 
सारे विश्व में हाल ही में स्वामी विवेकानंद जी का 150 वां जयंती वर्ष समारोह मनाया गया है और गुरु गोबिंद सिंह जी के संदर्भ में स्वामी जी के यह विचार पूरी दुनिया के साहित्य में प्रकाशित हुए हैं। स्वामी विवेकानंद जी वह महापुरुष हैं जिन्होंने भारतीय दर्शन व विचारों की पूरी दुनिया में पुन:स्थापना की और उनके द्वारा अमेरिका में दिए गए एतिहासिक भाषण की पूरी दुनिया में जयंती मनाई जाती है।
 
भारत भारती प्रकाशन के बारे स. बृभूषण सिंह बेदी ने कहा कि पिछले चालीस सालों से भारत का सबसे बड़ा प्रकाशन समूह है और यह समय-समय पर देश के हर महापुरुष की जीवनियां प्रकाशित करता है ताकि समाज को अपने महापुरुषों के प्रेरक जीवन व उनके सद्कर्मों की जानकारी मिल सके। 
 
यह स्थापित सत्य है कि हर प्रकाशन में संशोधन या विचारों की भिन्नता की गुंजाइश रहती है। अगर किसी को उनकी पुस्तकों पर आपत्ति है तो वह प्रकाशक से संपर्क कर अपनी आपत्ति दर्ज करवा सकता है। 
 
एक वायरल वीडियो पर स. बेदी ने कहा कि इससे आरएसएस का कोई संबंध नहीं है फिर भी उसे संघ के साथ जोडऩा एक बड़ी साजिश का हिस्सा है। संघ सरकार से मांग करता है कि वह इस वीडियो की जांच करवा कर दोषी को उपयुक्त सजा दे।
 
श्री बेदी ने कहा है कि मुट्ठी भर लोगों की एक लॉबी है जो समय-समय पर आरएसएस व सिख समाज के बीच टकराव की स्थिति पैदा करने का प्रयास करती रही है। पंजाब के धार्मिक व राजनीतिक नेताओं व मीडिया को इस लॉबी से खुद को बचाना होगा और समाज को सचेत रहना होगा। 
 
उन्होंने कहा कि संघ एक देशव्यापी व जिम्मेवार संगठन है। इसके करोड़ों स्वयंसेवक विगत 93 सालों से देश के सामाजिक कार्यों में लगे हैं। संघ सिख धर्म, मर्यादाओं व इतिहास का पूर्ण तौर पर सम्मान करता है और सामाजिक एकता का पक्षधर है।
 

सरकार के प्रयासों स्वरूप युवाओं में नशा छोडऩे का रुझान 126 फीसदी बढ़ा – मुख्यमंत्री

तरन तारन, 17 मई: पंजाब सरकार द्वारा राज्य में नशे का ख़ात्मा करने के लिए शुरु की गई मुहमि के परिणाम स्वरूप पंजाब के युवाओं में नशा छोडऩे का रुझान बढ़ा है जिस कारण नशामुक्ति केन्द्रों में युवाओं की गिनती पहले की अपेक्षा 126 प्रतिशत बढ़ी है । यह खुलासा मुख्यमंत्री पंजाब कैप्टन अमरिंदर सिंह ने तरन तारन में ‘डैपो’ प्रोग्राम के दूसरे चरण, नशा निगरान कमेटियाँ, पंजाब भर में 60 ‘ओट’ केन्द्रों और ‘बड्डी’ प्रोग्राम को पंजाब निवासियों को समर्पति करने के अवसर पर किया ।
मुख्यमंत्री ने बताया कि वर्ष 2016 में 1.82 लाख युवा नशा छोडऩे के लिए अस्पतालों में पहुँचे जबकि 2017 में 4.12 लाख युवा नशा छोडऩे के लिए आगे आए हैं । इसके अलावा 5107 नशे के आदी युवा सरकारी नशामुक्ति केन्द्रों में 17667 युवा प्राईवेट नशामुक्ति केन्द्रों में अपना इलाज करा रहे हैं । उन्होंने कहा कि सरकारी नशामुक्ति केंद्र में नशा छोडऩे के इच्छुक युवाओं का पूरा इलाज किया जा रहा है और निजी नशामुक्ति केन्द्रों पर भी सरकार पूरी नजऱ रख रही है ।
उन्होंने कहा कि नशे को बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं किया जायेगा और जो भी दोषी पाया गया उसके खि़लाफ़ सख़्त कार्यवाही होगी । मुख्यमंत्री ने कहा कि नशा बेचने में शामिल बड़ी मछलियों को भी जल्द ही काबू किया जायेगा । उन्होंने कहा कि जहां हमारा ध्यान राज्य को नशामुक्त करने पर है वहीं शिक्षा का स्तर ऊँचा उठाने के लिए लगातार कोशिशें हो रही हैं, क्योंकि गत वर्षों के दौरान शिक्षा के घटिए स्तर ने युवाओं में नकारात्मक रुझान पैदा करके उनको नशों की ओर धकेला है । उन्होंने कहा कि मेरा सुझाव है कि हरेक विभाग के बजट पर 5 प्रतिशत कटौती करके शिक्षा के लिए और फंड मुहैया करवाए जाएँ ।
सपैशल टास्क फोर्स की तरफ से पंजाब को नशामुक्त करने की की जा रही कोशशों की सराहना करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पंजाब को नशामुक्त करना हम सबका नैतिक कर्तव्य है ।
उन्होंने बताया कि ए.डी.जी.पी. हरप्रीत सिंह सिद्धू के नेतृत्व में शुरू किया जा रहा ‘बड्डी’ प्रोग्राम के तहत स्कूलों, कालेजों और यूनीवर्सिटयों के विद्यार्थियों को नशों के घातक प्रभाव से अवगत करवाकर इससे बचने के लिए प्रेरित किया जायेगा और पहले चरण में छठी से नौवीं कक्षा के विद्यार्थी कवर किये जाएंगे ।
‘ओट’ क्लीनकों संबंधी बोलते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि तरनतारन, मोगा और अमृतसर में 29 क्लीनिक पहले चल रहे थे और इनमें 4400 मरीज़ दर्ज हो चुके हैं । उन्होंने बताया कि बाकी क्लीनक पूरे पंजाब में खोले जा रहे हैं जिनमें केंद्रीय जेलें भी शामिल हैं । उन्होंने बताया कि ये क्लीनिक रोज़ खुले रहेंगे और इसके लिए 150 डाक्टर, 160 कांउसलर और नर्सों को शिक्षित किया गया है । इसके अलावा इन केंद्र में एच.आई.वी और टी.बी. के टैस्ट की सुविधा भी दी गई है ।
उन्होंने लोगों की तरफ से मिले समर्थन की प्रशंसा करते हुए कहा कि लोगों के समर्थन से आशा है कि पंजाब जल्द ही नशामुक्त होगा । उन्होंने बताया कि अबतक राज्य में 4.8 लाख लोग स्व -इच्छा के साथ नशा मुक्ति के ख़ात्मे के लिए आगे आए हैं जिसमें से 26000 अकेले जिला तरनतारन में से ही हैं । उन्होंने कहा कि जिस उत्साह के साथ लोग आज इस मुहिम में शामिल हुए हैं इतना जलसा उन्होंने अपने 57 वर्ष के राजनैतिक जीवन में नहीं देखा ।
‘डैपो’ प्रोग्राम के दूसरे चरण, नशा निगरान कमेटियाँ, पंजाब भर में 60 ओट केन्द्रों और ‘बड्डी’ प्रोग्राम के लिए आने वाले वलंटियजऱ् की सुविधा के लिए जिला प्रशासन और पुलसि की तरफ से डिप्टी कमिश्नर श्री प्रदीप सब्बरवाल के नेतृत्व में किये प्रबंधों की सराहना की।
इससे पहले हलका तरन तारन के विधायक धर्मवीर अग्निहोत्री ने मुख्यमंत्री को तरन तारन में आने पर सुस्वागतम कहा । इस मौके पर एस.टी.एफ की तरफ से नशों के प्रति लामबंदी के लिए तैयार की वीडियो फिल्में बड़ी एल.ई.डी. सक्रीनों पर दिखाईं गई।
इस मौके पर स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री ब्रह्म मोहिंद्रा, शिक्षा मंत्री ओ.पी. सोनी, मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल, लोकसभा मैंबर गुरजीत सिंह औजला, विधायक हरमिंदर सिंह गिल, धर्मवीर अग्निहोत्री, तरसेम सिंह डी.सी, संतोष सिंह भलाईपुर और सुखविंदर सिंह डैनी बंडाला, मुख्यमंत्री के विशेष प्रमुख सचिव गुरकिरत कृपाल सिंह, एस.टी.एफ के प्रमुख ए.डी.जी.पी. हरप्रीत सिंह सिद्धू, कमिश्नर जालंधर डिविजऩ राज कमल चौधरी, पूर्व मंत्री गुरचेत सिंह भुल्लर और पूर्व विधायक जसबीर सिंह डिंपा ।

Tarun Chugh

‘‘कांग्रेस का हाथ रेत बजरी माफिया के साथ ’’ : तरुण चुघ

चंडीगढ़ – भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय मन्त्री तरूण चुग ने कहा की शाहकोट विधानसभा के उपचुनाव में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गान्धी , पंजाब के मुख्यमन्त्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह व प्रदेश प्रधान सांसद सुनील जाखड की तिकडी ने रेत , बजरी माफिया के किंग पिन हरदेव सिंह लाडी शेरोवालियो को अपना उम्मीदवार बना का ‘‘कांग्रेस का हाथ रेत बजरी माफिया के साथ ’’ होने का पुख्ता प्रमाण दिया है।

श्री चुग ने कहा की शाहकोट के उप चुनाव में रेत माफिया की रंगदारी में लिपट कांग्रेस नेता हरदेव सिंह लड़ी शेरोवालिया को कांग्रेस उम्मीदवार बना कर कांग्रेस उप चुनाव की जंग शुरू होने से पहले ही हार गई है ,व उम्ममीदवा की घोषणा से पंजाब सरकार की रेत माफिया को संरक्षण व गड़जोड सामने आया है जिस लाड़ी पर एफ आई आर दर्जे हो जिसे जेल में भेजना चाहिए था उसे विधानसभा भेजने का काम पंजाब कांग्रेस कर रही है पंजाब की जनता उसे बर्दाशत नही करेगी ओर भारी मतों से कांग्रेस के अहंकार को चकना चूर कर के रहेगी

श्री चुग ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गान्धी के आडे हाथो लेते हुये कहा की कर्नाटक के चुनावों में बडी बडी बात करने वाले पंजाब में भृष्टाचार में लिप्त बडी मछलीयों के साथ रेत बजरी की खदानो के सरगना माफिया को पार्टी का टिकट दे रहे है। उन्होने कहा की कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने पूर्व कैबीनेट मन्त्री राणा गुरजीत सिंह के दबाव में आकर खनन माफिया के हाथ मजबुत करने के लिये शाहकोट उपचुनाव में हरदेव सिंह लाडी को टिकट दिलवाई है।

श्री चुग ने मेहतपुर के एस.एच. ओ स. बाजवा ने कांग्रेस उम्मीदवार स. लाडी पर पर्चा दर्ज करके चुनाव आयोग के निर्देशो का पालन किया है। अब एस. एच. ओ पर दबाव बना कर पंजाब सरकार लोकतन्त्र की धज्जिया उडा रही है। श्री चुग ने कहा की स्थानीय प्रशासन प्राकृतिक संसाधनो की चोरी करने वाले कांग्रेस उम्मीदवार हरदेव सिंह लाडी पर भारतीय संविधान की धारा 379 के अधीन दर्ज धारायों में उनको शीघ्र गिरफतार कर सलाखो के पीछे भेजें।

रिटायर्ड फौजी के आत्महत्या करते ही ,कफ़न की राजनीती शुरू हो गई

sunil-parbhakar

sunil prabhakar

सुनील प्रभाकर : आजकल जो राजनीती चल रही है वह समझ से बाहर है,एक रिटायर्ड फौजी ने आत्महत्या कर ली,इतना तो निश्चित है के वो साधारण या मंदबुद्धि नहीं था अगर हम उसके रिटायर होने के बाद ग्राम पंचायत में कार्य को देखें और यदि मजबूर ना किया होता तो देश का सिपाही इतना बड़ा कदम नहीं उठाता। चाहे सरकारी कर्मचारियों ने तंग किया हो,उसके द्वारा ऐसा कदम उठाना या इसके लिए उसे मजबूर करना निंदनीय है।

विपक्षी पार्टियों ने इस मुद्दे को लपक लिया या यूं कहे कफ़न की राजनीती शुरू हो गई, दिल्ली पुलिस के जल्द बाजी कहे या ना तजुर्बेकारी,इसको हॉस्पिटल के काम में रूकावट का नाम दे कर मुद्दा और बड़ा कर दिया।

अपने आपको देश के भविष्य निर्माता बताने वाले कांग्रेस और आप नेता भी तवा प्रान्त ले कर पहुँच गए,आनन फानन में केजरीवाल जी ने 1 करोड़ रुपये और परिवार के सदस्य को नौकरी का एलान कर दिया,पहले तो सोचो की सुपर मुख्य्मंत्री जिन्हें लोकतंत्र का कला इतिहास लिखने के लिए बिठाया लेफ्टिनेंट गवर्नर वोह पैसा देने देंगे,उनके अपने कानून है की जनतंत्र की चुनी हुई सरकार को काम नहीं करने देना,फिर केजरीवाल जी आपको इतना हक़ भी नहीं है लोगो के टैक्स से जमा खजाना इस तरह लुटाया जाये इतने पैसे में कई और मजबूर फौजियों की मदद हो सकती थी 1 करोड़ कम नहीं होते ऐसे रोजगार पैदा करो ,यह लोग औरो का सहारा बने,पहले ही आरक्षण ने हिन्दुस्तानियो को बेकार कर दिया है,राहुल जी को तो मौका चाहिए।

इसके बाद आते है हमारे भाजपा नेता और मंत्री इनका भी हाजम खराब है, सरकार की छवि बनाने के जगह बिगड़ने की कोशिश हमेशा रहती है,लोग चुप रहते हैं इसका मतलब यह नहीं वो बेवक़ूफ़ है,येही कारण है सत्ता सुख 5 साल से ज्यादा नहीं मिलता ,पब्लिक तो वही है फिर बदल क्यों जाती है संभल जाओ जनता में बहुत देश भक्ति है। धर्म भरष्टाचार और झूठ की राजनीती पर फिर कोई चाणक्य आएगा और लिखेगा।

केन्द्र व राज्य में अकाली भाजपा सरकार होने से पंजाब का मान-सम्मान फिर दौबारा बहाल हुआ : अरुण जेतली

balbir-singhअमृतसर  1 नवंबर : राज्य की अमीर सांस्कृतिक विरासत भविष्य में आने वाली पीढियों के लिए संभाल कर रखने के लिए राज्य सरकार की वचनबद्धता को दौहराते हुए पंजाब के मुख्य मंत्री स. प्रकाश सिंह बादल ने कहा कि जो देश अपने सांस्कृति और विरासत को भूल जाते हैं वह समय के व्यतीत होने के साथ समाप्त हो जाते हैं।

पंजाबी राज्य की 50वीं वर्षगांठ के संबंध में आज यहां टाऊनहाल में करवाए गए एक समारोह के दौरान जनसमुह को संबोधित करते हुए कहा कि शिरोमणी अकाली दल भाजपा सरकार ने पंजाब की शानदार सास्कृतिक विरासत को सभालने का अहम कदम उठाया है जिसके लिए विरासत-ए-खालसा, छोटा घल्लूघारा, बड़ा घल्लूघारा, बंदा सिंह बहादुर जंगी यादगार, जंगी नायक यादगारों का निर्माण किया। इसके अतिरिक्त जंग-ए-आजादी यादगार, बाबा जीवन सिंह (भाई जैता), गुरु रविदास जी की यादगार व भगवान बाल्मीकि स्थल शीघ्र ही आने वाले दिनों के दौरान देश को समर्पित किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की कड़े प्रयासों के कारण प्रदेश की महान सांस्कृतिक विरासत संभाली गई है, जो आने वाली पीढिय़ों को अपने मूल से जोडऩे के लिए अहम भूमिका निभाएंगी।

मुख्य मंत्री ने कहा कि कांग्रेस की लीडरशिप ने पंडित ज्वाहर लाल नेहरू के समय से ही पंजाब के साथ विश्वासघात किया है , जिन्होंने बोली के आधार पर पंजाबी राज्य बनाने का वायदा किया था, लेकिन वह बाद में उन्होंने ने इस तरह करने से इंकार कर दिया।  पंजाबी राज्य के गठन में अहम कुर्बानियां देने वाले महान नायकों को श्रद्धांजलि भेंट करते हुए स. बादल ने कहा कि प्रत्येक पंजाबी उनका कर्जदार है, जिन्होंने पंजाबी राज्य के सपने को साकार करने में अहम भूमिका निभाई है। उन्होंने कहा कि इस संघर्ष में 43 शहीद हुए थे जबकि 59 लोगों को कैद हुई थी।

मुय मंत्री ने आगे कहा कि आजादी संघर्ष में पंजाबियों ने अहम भूमिका निभाई इस दौरान कूका लहर , किसान आदि संघर्षो में पंजाबियों ने आगे बढ़ कर भाग लिया। उन्होंने कहा कि बहादुर पंजाबियों ने ब्रिटिश सम्राज्य के विरुध आजादी संघर्ष में अहम योगदान दिया। स. बादल ने कहा कि आजादी के बाद भी पंजाबी देश की खुुशहाली और पूर्ण विकास के लिए आगे रहे हैं और इन्होंने बाहरी हमलों से देश की सीमाओं की रक्षा की है। पिछले वर्षो से कांग्रेस की जन विरोधी पहुंच संबंधी लोगों को सुचेत करते हुए मुख्य मंत्री ने कहा कि कांग्रेस ने प्रदेश के सामाजिक ,राजनीतिक, आर्थिक व धार्मिक मामलों में दखल अंदाजी कर के प्रदेश का नुक्सान किया है। उन्होंने कहा कि केन्द्रीय की कांग्रेस की सरकार ने पंजाब को इस की राजधानी और पंजाबी बोलने वाले क्षेत्रों से वंचित रखा तथा इस ने राज्य के दरियाई पानियों के हिस्से को नजरअंदाज किया। स. बादल ने कहा कि कांग्रेस ही राज्य में आतंकवाद के काले दिनों की जिमेवार है, जिसने सब की प्रगति और खुशहाली के रास्ते में बांधा डाली।

कांग्रेस पार्टी के पंजाब विरोधी चालों का जिक्र करते हुए मुख्य मंत्री ने कहा कि कांग्रेस ने हमेशा अपने राजनीतिक हित्तों के लिए फूट डालों की राजनीति खेली है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस लीडरशिप ने राज्य के साथ विश्वासघात किया है और शांति से रह रहे भाईचारों में फूट डालने का प्रयास किया है। स. बादल ने कहा कि कांग्रेस ने अपने 60 साल के कुशासन से देश का भारी नुक्सान किया है और बेरोजगारी, अनपढ़ता, गरीबी और बहुत सारी बुराईयों को बढ़ावा दिया है।

केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेतली ने अपने संबोधन के दौरान कहा कि वर्ष 2016 पंजाब को तेज विकास के रास्ते पर लेकर जाने को समर्पित है। मुख्य मंत्री स. प्रकाश सिंह बादल के नेतृत्व में पिछले दस सालों के दौरान हुई बेमिसाल उन्नति का जिक्र करते हुए श्री जेतली ने कहा कि कांग्रेस सरकार द्वारा पंजाब को हमेशा नजरअंदाज किया जाता रहा है, लेकिन अब केन्द्र व राज्य में अकाली भाजपा सरकार होने से पंजाब का मान-सम्मान फिर दौबारा बहाल हुआ है।

स. बादल द्वारा अपने राजनीतिक जीवन दौरान लोक सेवा को पहल देते हुए राज्य के विकास के लिए किए गए प्रयासों  को बेमिसाल बताते हुए जेतली ने कहा कि स. बादल द्वारा निजी हित्तों से पहले लोक हित्तों को सामने रखा गया है। केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि अकाली भाजपा सरकार के एकमात्र उद्देश्य भाईचारे को कायम रखना व सर्वपक्षीय विकास है। उन्होंने कहा कि दोनों पार्टियों का गठबंधन राजनीतिक न होकर सामाजिक है और आतंकवाद सहित किसी भी मुश्किल स्थिति में लोक हित्त की रक्षा के लिए गठबंधन ने संघर्ष किया है।

उप मुय मंत्री स. सुखबीर सिंह बादल ने कहा कि पंजाबी राज्य महान नायकों द्वारा की गई बेमिसाल कुर्बानियों के चलते ही होंद में आया है, जिन्होंने इस कार्य के लिए संघर्ष किया। उन्होंने कहा कि पंजाब के निर्माण के बाद भी समय समय की कांग्रेस सरकारों ने राज्य की राजधानी, पंजाबी बोलने वाले क्षेत्र और दरियाई पानियों के अधिकारों से वंचित रखा। उप मुय मंत्री ने प्रण किया कि शिरोमणी अकाली दल तब तक संघर्ष करता रहेगा , जब तक यह मसले हल नहीं होंगे। उप मुय मंत्री ने कहा कि 1984 के सिक्ख कतलेआम के दोषियों को जेलों में डालने के लिए प्रत्येक पंजाबी द्वारा लड़ाई जारी रखी जाएगी। स. बादल ने कहा कि पंजाब के लोग एक संघर्षमय कौम से संबंधित हैं, जिन्होंने मुगलों व बरतानवीं हकुमतों के दौरान जबर-जुल्म , अन्याय व दमन के खिलाफ असंय कुर्बानियां दी। उन्होंने कहा कि पंजाबियों में मेहन्त करने का अमिट जजबा है, जिसके चलते इन्होंने अपनी अलग पहचान बनाई है।

उप मुय मंत्री ने कहा कि पंजाब देश का 2.5 प्रतिशत हिस्सा है लेकिन अनाज सब से अधिक पैदा करता है। उन्होंने कहा कि दूसरे राज्यों ने अपने कुछ हिस्से ही विकसित किए हैं लेकिन अकाली भाजपा सरकार ने व्यापक विकास कर के पूरे राज्य की कायाकल्प की है। उन्होंने कहा कि पंजाब में पिछले 20 वर्षो में सब से ज्यादा विकास हुआ ,जिसमें 15 साल मुय मंत्री स. प्रकाश सिंह बादल के नेतृत्व में संभव हुआ है।

विरोधियों द्वारा राज्य को बदनाम करने वालों को आढ़े हाथों लेते हुए उप मुय मंत्री ने कहा कि पंजाब आज देश का अग्रणी राज्य है, जो न केवल बिजली उत्पादन में आत्मनिर्भर राज्य है बलकि सब से सस्ती बिजली मुहैया करवा रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य में बढिय़ा सडक़ों के ढांचा है और आने वाले 6 महीनों में पीने वाले पानी व सीवरेज की शत प्रतिशत सुविधा मुहैया होगी। उन्होंने कहा कि पंजाब में सिंचाई का बढिय़ा नेटवर्क है और किन्नु, दूध व अमरूद की पैदावार में अग्रणी राज्य है और लीची की पैदावार में भी सब से अग्रणी है।

उप मुय मंत्री ने कहा कि हौजरी, साइकिल , टै्रक्टर व खेती उपकरण , खेलों व मशिनरी में भी पंजाब सब से अग्रणी स्थान पर हैऔर कपड़ा उद्योग में भी पंजाब दूसरे स्थान पर है। उन्होंने कहा कि पिछले 50 वर्षो पंंजाब में हुए विकास के गवाह हैं, लेकिन अभी भी बहुत कुछ किया जाना शेष है।

केन्द्रीय राज्य मंत्री व भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष श्री विजय सांपला ने श्री दरबार साहिब कपलैक्स को न्या रूप देने के लिए उप मुय मंत्री की सराहना की । राज्य के गौरवमय इतिहास को दर्शाने के लिए किए गए प्रयासों पर मुय मंत्री को शुभकामनाएं देते हुए श्री सांपला ने कहा कि मुय मंत्री नं राज्य के लोगों की बहुत बहुत सेवा की है। वह समुह राज्य उनका हमेशा कर्जदार रहेगा। उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया ने पंजाबियों की अलग पहचान का समान किया है।

इस अवसर पर केन्द्रीय मंत्री श्री मति हरसिमरत कौर बादल पंजाब विधान सभा के स्पीकर डा. चर्णजीत सिंह अटवाल, कैबनिट मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया, डा. दलजीत सिंह चीमा, जनमेजा सिंह सेखों, गुलजार सिंह राणीके, सोहन सिंह ठंडल, अनिल जोशी, संसद सदस्य सुखदेव सिंह ढींडसा, रणजीत सिंह ब्रह्मपुरा, स. बलविन्द्र सिंह भूंदड व श्वेत मलिक , शिरोमणी गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रधान जत्थेदार अवतार सिंह , दिल्ली से गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रधान मंजीत ङ्क्षसह जीके , व महासिचव मनजिन्द्र सिंह सिरसा, भाजपा के पूर्व अध्यक्ष कमल शर्मा, पूर्व मंत्री ,विधायक , शिरोमणी कमेटी सदस्यों साहित भारी संया में अकाली भाजपा नेता व कार्यकर्ता उपस्थित थे।

आज के समारोह में समानित शखशियतें

केन्द्रीय वित्त मंत्री श्री अरुण जेतली का विशेष समान

मास्टर तारा सिंह के परिवार से-बीबी किरणजीत कौर

दर्शन सिंह फेरूमान के परिवार से—सोहन सिंह फेरूमान

संत फतेह सिंह के परिवार से -स. सुखवीरपाल सिंह बदियाला व स. राजदीप सिंह बदियाला

सेठ रामनाथ के परिवार से -अशोक सेठ व अविनाश सेठ

नामवर खिलाड़ी- हाँकी औंलपियन बलबीर सिंह सीनियर , अजीत पाल सिंह , औलपियन स्वर्ण पदक विजेता श्री अभिनव बिंद्रा

प्रमुख उद्योगपति -श्री एसपी ओसवाल, श्री राकेश भारती मित्तल, श्री पंकज मुंजाल, श्री राजेन्द्र गुप्ता , श्री कमल ओसवाल

दिल्ली के पूर्व लैफिटीनेट गवर्नर- तेजिन्द्र खन्ना

प्रसिद्ध गायक व अदाकार- गुरदास मान

फौज का पूर्व प्रमुख – जनरल जे.जे. सिंह

एस.वाई.एल पर धोखेबाज बादल के दोहरे मापदंड पर बरसी पंजाब कांग्रेस

चंडीगढ़, 1 नवंबर: पंजाब कांग्रेस ने कहा है कि एस.वाई.एल. विवाद के अहम मोड़ पर पंजाब के लोगों के साथ धोखा करने वाले पाखंडी मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल आगामी विधानसभा चुनावों के मद्देनजर इस मुद्दे पर दोहरी बात कर रहे हैं।
पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने अकाली नेताओं पर बेशर्मीपूर्वक मामले में दोहरे मापदंड अपनाने का आरोप लगाते हुए कहा कि इनके द्वारा एस.वाई.एल विवाद पर अब पेश किया जा रहा पक्ष, इनके बीते गुनाहों से पूरी तरह विपरीतcongress है। जिनसे ये भाग नहीं सकते।
प्रदेश कांग्रेस ने पंजाबी सूबे के गोल्डन जुबली जश्न संबंधी अमृतसर में आयोजन के दौरान बादल के बयान कि उनकी सरकार इस विवाद का हल करने के लिए वचनबद्ध है, पर प्रतिक्रिया जाहिर की है।
पार्टी नेताओं रवनीत बिट्टू, सुख सरकारिया, कुलजीत नागरा व रणदीप नाभा ने कहा कि वास्तव में पंजाब की अकाली सरकार की एस.वाई.एल के मुद्दे पर पंजाब को बैकफुट पर धकेलने के लिए जिम्मेदार है। जिन्होंने पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष कैप्टन अमरेन्द्र सिंह द्वारा कुछ समय पहले जारी किए गए दस्तावेजी सबूतों का जिक्र किया है, जो साफतौर पर दर्शाते हैं कि बादल ने 20 फरवरी, 1978 को अधिसूचना जारी करके एस.वाई.एल के निर्माण हेतु पंजाब में जमीन अधिग्रहण की थी, जो लंबे वक्त से चलते आ रहे इस विवाद में पंजाब का पक्ष कमजोर कर रहे हैं।
पार्टी नेताओं ने बादल पर मुद्दे पर गंदी सियासत खेलने का आरोप लगाते हुए कहा कि बादल, पंजाब टर्मिनेशन ऑफ एग्रीमेंटस एक्ट, 2004 को बचाए रखने में नाकाम रहे, जिसे पिछली कैप्टन अमरेन्द्र सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार ने पास करके पंजाब द्वारा किए गए सभी अंतरराज्यीय पानी समझौतों को रद्द कर दिया था।
कैप्टन अमरेन्द्र पहले ही ऐलान कर चुके हैं कि यदि एस.वाई.एल पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला राज्य के खिलाफ जाता है, तो वह सभी कांग्रेसी विधायकों सहित इस्तीफा दे देंगे।
प्रदेश कांगे्रस के नेताओं ने बादल को केस का फैसला पंजाब के खिलाफ जाने पर शिरोमणि अकाली दल का पक्ष स्पष्ट करने को कहा है। उन्होंने बादल से कहा कि सिर्फ नाटकीय बयान देकर कि पंजाब के लोग अपने पानी को हरियाणा को नहीं जाने देंगे, आपको कोई मदद नहीं मिलने वाली। ऐसे हालातों के साथ निपटने को आपको स्पष्ट एजेंडा सामने रखना चाहिए।
उन्होंने बादल पर देवी लाल के साथ अपने व्यक्तिगत रिश्तों की खातिर राज्य के हित दांव पर लगाने का आरोप लगाते हुए जानना चाहा है कि क्या आप इस्तीफा भी दे दोगे?
बादल के शब्दों कि पंजाब के लोग अपने पानियों की रक्षा हेतु कोई भी बलिदान देने को तैयार हैं, पर प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए प्रदेश कांग्रेस के नेताओं ने बादल से पंजाब के लिए अपने व अपने साथियों को बलिदान देने हेतु तैयार रखने को कहा है।