Category Archives: Hindi News

amit tomar

अन्तः पूजा की हत्या हो ही गयी !

अमित तोमर (अधिवक्ता), देहरादून : 8-9 महीने पुरानी बात होगी, विकास नगर से सूचना मिली कि एक 14-15 साल की मासूम नेपाली मूल की बच्ची से शाहरुख नामक युवक ने पहले ज़बरन बलात्कार किया और जब उसने गर्ब धारण कर लिया तो शाहरुख जबरन उस बच्ची को अपने घर उठा लाया जहां उसका धर्म परिवर्तन कर निकाह करने की तैयारी थी, बाकायदा मौलवी भी आ चुका था। किसी प्रकार पुलिस की मदद से उस मासूम बच्ची को बचाया गया और आरोपी शाहरुख के विरुद्ध गंभीर धाराओं ( 376, 363, 366 (A), 506 I.P.C और 3/4 POCSO अधिनियम) के तहत मुकदमा दर्ज किया गया जो आज माननीय न्यायालय विशेष न्यायाधीश POCSO कोर्ट में ट्रायल पर है (SST NO. 59 / 2017), शाहरुख तभी से जेल में है।
जब इस बच्ची को बचाया जा रहा था तो घर मे एक और लड़की थी जिसे शाहरुख के परिजन ‘निशा’ कह पुकार रहे थे। शक्ल देख और भाषा सुन कोई भी बता देता कि वो गढ़वाली मूल से है। माथा ठनका तो छोटे भाई अंकित ने पूरा बॉयोडाटा सुना दिया। असल मे वो निशा नही अपितु पूजा टम्टा थी जिसे शाहरुख के बड़े भाई सलमान ने प्रेमजाल में फंसा कर रुद्रप्रयाग से भगाया था और धर्म परिवर्तन कर निकाह किया था।

निकाह के दिखावे के बाद पूजा को जिस्म की मंडी में उतार दिया गया था और पूजा से अंतहीन अत्याचार होने लगा था। किसी बेज़ुबान पशु की भांति पूजा की आंखे सब कुछ कह रही थी पर चाह कर भी हम कुछ नही कर सकते थे क्योंकि भारत के कानून के हिसाब से वो शादीशुदा और बालिग थी। कई बार पूजा से छद्म माध्यमों से संपर्क साधा पर वो इतनी डरी और सहमी थी कि पूर्ण विश्वास दिलाने के बाद भी पुलिस के पास जाने को तैयार नही हुई। बस कहा, “मेरी गलती की सज़ा केवल मौत है, आज नही तो कल मुझे मार ही दिया जायेगा।” पूजा एक बहुत गरीब दलित परिवार से थी और उसके परिजनों ने भी उसे बोझ समझ दुत्कार दिया था, शायद सोचा होगा कि सर का बोझ निबट गया।

कल शाम 5:30 पता चला कि पूजा की हत्या हो गयी। मीडिया में फैलाया गया कि उसने आत्महत्या की और कोई सुसाइड नोट भी पुलिस को मिला जिसे पुलिस द्वारा सावर्जनिक नही किया गया। पूजा के हत्यारे सलमान ने बताया कि पूजा ने कपड़े की मदद से पंखे से लटक आत्महत्या कर ली और उसके बाद सलमान ने पंखे से लाश उतारी और लाश को हॉस्पिटल ले गया जहां ‘लाश’ को मृत घोषित कर दिया गया।
पुलिस द्वारा खाना पूर्ति के लिए पूजा के भाई को बुलाया।

अभी शाम को उनसे बात हुई तो आभास हो गया कि उनको ठीक-ठाक मैनेज कर दिया गया है क्योकि वो किसी भी स्थिति में लड़ना नही चाहते, या यूँ कहूँ की देश के कानून और न्याय प्रणाली पर उन्हें विश्वास नही। सही भी है। कानून गरीबों के लिए था कब? मैंने उन्हें आश्वस्त किया कि उनका एक पैसा भी खर्च नही होने देंगे, स्वयं लड़ूंगा पूजा के लिए पर उनकी बात भी सही थी कि कैसे बार-बार एक हज़ार रुपया खर्च कर विकास नगर में मुकदमा लड़ेंगे। निश्चित ही 3-4 बार तो बयान के लिए आना ही होगा।
यह भारत है। 71 साल का भारत जहां अम्बेडकर के संविधान से दलितों को न्याय नही मिलता। पुलिस भी कब तक पैरवी कर सकती है, इसी लिए देश में conviction rate न्यूनतम स्तर पर है।
पर अब यह मुकदमा हम लड़ेंगे। पूजा को इंसाफ किसी भी तरह मिलेगा।

आदरणीय एसएसपी महोदया/ SP ग्रामीण महोदया आप दोनों से विनती है इस मामले की जांच किसी राज्यपत्रित पुलिस अधिकारी को सौंपे। अभी कुछ दिन पूर्व राहुल पांधी के मुकदमे की जांच तत्कालीन SP श्रीमती श्वेता चौबे जी को सौंपी गई थी फिर इस मामले में क्यो मौन हो। क्योकि यह बच्ची गरीब है।

श्रीछःन्याति ब्राह्मण समाज जमीन के सामने सात दिन चला आमरण अनशन हुआ समाप्त……

श्रीछःन्याति ब्राह्मण समाज जमीन पर ब्रह्मानंद छात्रावास बनाने, भुमि दानदाता ब्रह्मानंद भनोत का बोर्ड लगाने तथा श्रीछःन्याति ब्राह्मण महासंघ अध्यक्ष का चुनाव करवाने की मांग करते हुए गत सात दिनों से कर रहे आमरण अनशन समाजसेवी के के शर्मा को श्रीछःन्याति ब्राह्मण महासंघ अध्यक्ष डॉ मोहनलाल जाजड़ा तथा संरक्षक खेताराम तावनियां ने ज्यूस पिलाकर मुद्दों पर सहमति जताते हुए अनशन को समाप्त करवाया।
इससे पुर्व गौड़ सभा भवन में श्रीछःन्याति ब्राह्मण समाज की मीटिंग आयोजित की गई जिसमें महासंघ कार्यसमिति की ओर से  डाॅ मोहनलाल जाजड़ा, श्रीधर शर्मा, आशाराम जोशी, खेताराम तावनियां, रुपचंद सारस्वत तथा अनशनकर्ताओं की ओर से सागरमल सारस्वत,तोलाराम उपाध्याय,पार्षद भगवती प्रसाद गौड़, राजकुमार बेरासर, श्यामसुंदर तावनियां,   पवन तावनियां दीपसर, देवेन्द्र सारस्वत, पुर्व अध्यक्ष डॉ सत्यनारायण जोशी, मनोज सारस्वत खारड़ा तथा शिवशंकर जोशी द्वारा दोनों पक्षों के बीच आपसी सहमति बनाई गई।
श्रीछःन्याति ब्राह्मण समाज जमीन पर ब्रह्मानंद भनोत का बोर्ड लगा दिया गया। जल्द ही ब्रह्मानंद छात्रावास बनाने तथा आगामी तीन महीनों में संविधान के अनुसार महासंघ के चुनाव की प्रक्रिया शुरू कर दी जायेगी।
श्री ब्रह्मानंद छात्र सदन संघर्ष समिति सह संयोजक रामदेव आसोपा ने बताया कि आमरण अनशन पर बैठे के के शर्मा के साथ अनिश्चित कालीन धरने पर बैठे रामनिवास खांतडिया, दीनदयाल सारस्वत, मनोज जोशी, नरेश सारस्वत, भगवानदेव सारस्वत, रविंद्र जाजड़ा, नंदलाल सारस्वा खारड़ा, पवन बेरासर तथा शुभकरण सारोठिया को भी मिठाई खिलाकर धरना समाप्त किया गया।
आमरन अनशन और अनिश्चितकालीन धरने को सहयोग समर्थन देने के लिए ललित कौशिक, कैलाश पारीक नोखा, कालू उप सरपंच हजारी महाराज, मनोज सारस्वत, राजकुमार गुरावा, पंचायत समिति सदस्य श्रवण कायल, शेरेरां सरपंच परमेश्वर सारस्वा, कपूरीसर पुर्व सरपंच महेन्द्र सारस्वत, संरक्षक सदस्य गोविंद पारीक, मूरलीधर गुरावा, शिवप्रसाद तावनियां, योगेन्द्र दाधीच, तनुज सारस्वत, दीनदयाल, राजेश कुमार उपाध्याय, सुशील तावनियां, शांतिलाल शर्मा, हंसराज सारस्वा, ओमप्रकाश राजेरां, पवन कुमार, देवीलाल ओझा, शिवरतन, श्रवण पारीक, छगनलाल सारस्वत तथा भवानी कौशिक का समाजसेवी के के शर्मा द्वारा आभार व्यक्त किया गया।

आमरण अनशन के पांचवें दिन शर्मा के पक्ष में उतरे युवा प्रतिनिधि…

श्री ब्रह्मानंद छात्र सदन संघर्ष समिति के बैनर तले श्रीछःन्याति ब्राह्मण समाज जमीन के सामने आमरण अनशन आज पांचवें दिन भी जारी रहा। आमरण अनशन के पांचवें दिन समाजसेवी के के शर्मा को श्रीछःन्याति ब्राह्मण समाज के युवाओं द्वारा आन्दोलन में पुर्ण समर्थन देते हुए आमरण अनशन पर बैठे। आमरण अनशन पर रामनिवास खांतडिया, मनोज जोशी रायसर, शुभकरण तावनियां सारोठिया तथा कैलाश पारीक नोखा बैठ गये।
 
श्री ब्रह्मानंद छात्र सदन बनाने के लिए सारस्वत महासभा युवा प्रकोष्ठ जिलाध्यक्ष भगवानदेव सारस्वत, देवेन्द्र भारद्वाज, भाजयुमो नरेश सारस्वत, शेरेरां सरपंच परमेश्वर सारस्वत, बीकानेर पार्षद भगवती प्रसाद गौड़, संरक्षक सदस्य सागरमल सारस्वत खारड़ा, संरक्षक सदस्य श्यामसुंदर तावनियां, प्रदीप उपाध्याय, तनुज सारस्वत, रविन्द्र जाजड़ा, रघुवीर उपाध्याय, पुखराज पाईवाल, मनोज सारस्वत खारड़ा, शांतिलाल शर्मा, रामकिशन मोट, श्रवण कायल, तोलाराम उपाध्याय, हंसराज सारस्वत, सूनील आसोपा, देवीलाल सारस्वत, गुलाब भारद्वाज, पवन तावनियां दीपसर, राजकुमार सारस्वत बेरासर, मोहनलाल तावनियां तथा अजय मुद्गल सहित 25 सदस्यों द्वारा पुर्ण समर्थन प्रदान करते हुए धरने पर बैठे तथा समाज की जमीन से तुरन्त व्यवसायिक गतिविधि एवं अतिक्रमण निर्माण को हटाये जाने की मांग को जायज ठहराया है।
लगातार पांच दिनों से आमरण अनशन और अनिश्चित कालीन क्रमिक धरने पर बैठे ब्राह्मण समाज के गणमान्य लोगों से बातचीत के जरिए समस्या का हल निकालने के लिए किसी भी प्रकार से प्रयास नहीं करने पर धरनार्थियों द्वारा श्रीछःन्याति ब्राह्मण महासंघ अध्यक्ष डॉ मोहनलाल जाजड़ा और उनकी कार्यकारिणी की हठधर्मिता पर गंभीर आक्रोश व्यक्त किया गया है। जबकि आमरण अनशन पर बैठे समाजसेवी के के शर्मा की तबियत लगातार बिगड़ रही है।
 
गौर तलब है कि श्रीछःन्याति ब्राह्मण महासंघ को सवा लाख वर्ग गज जमीन भामाशाह ब्रह्मानंद भनोत सारस्वत द्वारा समाज के शैक्षणिक योग्यता बढ़ाने के लिए प्रयासरत बच्चों के लिए छात्रावास बनाने के लिए दान की थी परन्तु भुमिदान करने के तैयालिस वर्ष बाद भी छात्रावास का निर्माण नहीं किया जा सका है।
संघर्ष समिति सदस्य देवेन्द्र भारद्वाज ने बताया कि संघर्ष समिति का प्रतिनिधि मंडल जिला कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक तथा युआईटी सचिव से मिलकर ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में समाज की भुमि को अतिक्रमण से बचाने, बिना अनुमति किये जा रहे अवैध निर्माण को रोकने, अनजान लैबर का पुलिस वैरिफिकेशन करवाने तथा अनशनकर्ता के के शर्मा द्वारा किये जा रहे शांतिः पुर्ण अनशन एवं धरने को सुरक्षा प्रदान करने के लिए मांग की गई है।

आमरण अनशन के चौथे दिन के के शर्मा के पक्ष में उतरे ब्राह्मण समाज के पदाधिकारी…

श्री ब्रह्मानंद छात्र सदन संघर्ष समिति के बैनर तले श्रीछःन्याति ब्राह्मण समाज जमीन के सामने आमरण अनशन आज चौथे दिन भी जारी रहा। आमरण अनशन के चौथे दिन समाजसेवी के के शर्मा को श्रीछःन्याति ब्राह्मण महासंघ के घटक पंजीकृत समाज के पदाधिकारी द्वारा आन्दोलन में पुर्ण समर्थन प्रदान किया है।
 
श्री ब्रह्मानंद छात्र सदन संघर्ष समिति संयोजक हरिकिशन सारस्वत ने बताया कि दाधीच ब्राह्मण समाज अध्यक्ष मगन औझा ,महामंत्री रामलाल दादिच,सहित पदाधिकारीगण, राष्ट्रीय ब्राह्मण महासंघ के जिलाध्यक्ष मनोज कुमार शर्मा सहित जिला कार्यकारिणी, गौड़ समाज ब्राह्मण सभा महामंत्री गणेश गौड़,ललित कौशिक सहित पदाधिकारीगण, सारस्वत ब्राह्मण महासभा महामंत्री देवेन्द्र सारस्वत, अखिल भारतीय सारस्वत समाज विकास समिति , राजस्थान बेरोजगार छात्र संघ जयपुर के प्रदेश सचिव मनोज शर्मा टीम द्वारा पुर्ण समर्थन प्रदान किया गया है तथा समाज की जमीन से तुरन्त व्यवसायिक गतिविधि एवं अतिक्रमण निर्माण को हटाये जाने की मांग को जायज ठहराया है।
 
समर्थन करने के लिए ब्राह्मण समाज के शशि शर्मा वरिष्ठ राजनेता, देशनोक नगरपालिका चैयरमैन कानाराम घूघरवाल, देशनोक पार्षद भगवानदान चारण, भाजयुमो जिला मंत्री नरेश मोट, हीरालाल सारस्वा तथा रामदेव आसोपा द्वारा धरना स्थल पर पहुंच कर धरने को उचित बताया।
अनिश्चित कालीन क्रमिक अनशन पर गौड़ सनाढय फाउंडेशन युवा जिलाध्यक्ष दिनेश शर्मा, सूनील आसोपा, रामदयाल पंचारिया, रामलाल ओझा दाधीच, तरुण भादानी, लक्ष्मी नारायण शर्मा, गोविंद पारीक, राजेश उपाध्याय, संजीव कश्यप, बाबूलाल शर्मा, गुलाब भारद्वाज, मनोज जोशी, श्रवण रामावत, सत्यनारायण शर्मा तथा हंसराज सारस्वत सहित समाज के पन्द्रह सदस्य भी धरने पर बैठे।
चार दिनों तक आमरण अनशन और अनिश्चित कालीन क्रमिक धरने पर बैठे ब्राह्मण समाज के गणमान्य लोगों से बातचीत के जरिए समस्या का हल निकालने के लिए किसी भी प्रकार से प्रयास नहीं करने पर धरनार्थियों द्वारा श्रीछःन्याति ब्राह्मण महासंघ अध्यक्ष डॉ मोहनलाल जाजड़ा और उनकी कार्यकारिणी की हठधर्मिता पर गंभीर आक्रोश व्यक्त किया गया है। जबकि आमरण अनशन पर बैठे समाजसेवी के के शर्मा की तबियत लगातार बिगड़ रही है।
गौर तलब है कि श्रीछःन्याति ब्राह्मण महासंघ को सवा लाख वर्ग गज जमीन भामाशाह ब्रह्मानंद भनोत सारस्वत द्वारा समाज के शैक्षणिक योग्यता बढ़ाने के लिए प्रयासरत बच्चों के लिए छात्रावास बनाने के लिए दान की थी परन्तु भुमिदान करने के तैयालिस वर्ष बाद भी छात्रावास का निर्माण नहीं किया जा सका है।
संघर्ष समिति सह संयोजक रामदेव आसौपा ने बताया कि समिति का प्रतिनिधि मंडल कल दिनांक 24 मई को प्रातः 11 बजे माननीय जिला कलेक्टर तथा पुलिस अधीक्षक कार्यालय में जाकर मिलेंगे तथा अनशनकर्ता के के शर्मा द्वारा किये जा रहे शांतिः पुर्ण अनशन एवं धरने को सुरक्षा प्रदान करने के लिए ज्ञापन सौंपा जायेगा। धरने के पांचवें दिन श्रीछःन्याति ब्राह्मण महासंघ अध्यक्ष और कार्यकारिणी सदस्यों तथा किरायेदार निजी कम्पनी ठेकेदार द्वारा अशांति उत्पन्न करने का प्रयास किया जा सकता हैं।

राजस्थान साहित्य अकादमी अध्यक्ष डॉ इंदु शेखर तत्पुरुष (राज्यमंत्री दर्जा प्राप्त) का बीकानेर ब्राह्मण समाज ने किया भव्य स्वागत….

राजस्थान साहित्य अकादमी अध्यक्ष के रूप में पहली बार बीकानेर पधारने पर डाॅ. इन्दु शेखर शर्मा तत्पुरुष का बीकानेर ब्राह्मण समाज द्वारा द्वारा भव्य स्वागत अभिनंदन किया गया।
बीकानेर ब्राह्मण समाज के संभागीय संयोजक के के शर्मा ने बताया कि राजस्थान साहित्य अकादमी के पुर्व अध्यक्ष श्याम महर्षि एवं साहित्यकार डाॅ. बी एल भादानी द्वारा साफा, बीकानेर ब्राह्मण संभागीय संयोजक के के शर्मा एवं गौड़ सनाढय फाउंडेशन महामंत्री गोवर्धन चौमाल द्वारा शाल, भाजपा महिला मोर्चा जिला देहात प्रभारी शोभा सारस्वत तथा अंतरराष्ट्रीय ब्राह्मण फैडरेशन प्रदेशाध्यक्ष सविता गौड़ द्वारा केसरिया दुपट्टा, सारस्वत महासभा युवा प्रकोष्ठ प्रदेश प्रभारी भैरुं रतन जस्सू साधासर तथा गौड़ सनाढय फाउंडेशन युवा जिलाध्यक्ष दिनेश शर्मा द्वारा भगवान परशुराम प्रतिक चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।
इस अवसर पर राजस्थान साहित्य अकादमी अध्यक्ष डॉ इंदुशेखर शर्मा ने कहा कि ब्राह्मणों ने साहित्य और संस्कृति को उच्चतम स्तर पर पहुंचाने का प्रयास किया है। ब्राह्मण समाज द्वारा सर्वव्यापी सर्वस्पर्शी तथा सामाजिक समरसता को सदैव प्राथमिकता प्रदान की गई है। चराचर जगत को शांति एवं सोहार्द का संदेश दिया जाता रहा है।
अकादमी अध्यक्ष डॉ इंदुशेखर तत्पुरुष का श्रीछःन्याति ब्राह्मण महासंघ गोविंद पारीक, साहित्यकार रवि पुरोहित, सरस वेलफेयर सोसाइटी महामंत्री गजानंद सारस्वत, भागीरथ कौशिक तथा धनंजय सारस्वत द्वारा माल्यार्पण कर स्वागत अभिनंदन किया गया।

श्रीछःन्याति ब्राह्मण समाज जमीन से अतिक्रमण हटाने के लिए आमरण अनशन शुरू…

श्री ब्रह्मानंद छात्रावास बचाओ संघर्ष समिति द्वारा आज दिनांक 20 मई को प्रातः 11 बजे से शांतिपूर्ण आमरण अनशन और क्रमिक धरना शुरू किया गया।
समिति संयोजक हरिकिशन सारस्वत ने बताया कि जयपुर मार्ग स्थित श्रीछःन्याति ब्राह्मण समाज जमीन से अतिक्रमण हटाने, भुमि दान दाता ब्रह्मानंद भनोत की वसीयत के अनुसार श्री ब्रह्मानंद छात्रावास बनाने, श्रीछःन्याति ब्राह्मण महासंघ के अध्यक्षीय चुनाव करवाने, संविधान अनुसार आम सभा बुलाने जैसे मुद्दों को लेकर समाजसेवी के के शर्मा ने आमरण अनशन शुरू किया गया है। वहीं क्रमिक धरने पर समाज के इक्कीस सदस्यों द्वारा श्रीछःन्याति ब्राह्मण महासंघ संरक्षक सदस्य छगनलाल सारस्वा, रामनिवास खांतडिया, नरेश मोट, पवन तावनियां दीपसर, शुभकरण सारोठिया, अनाजमंडी मुनीम संघ के अध्यक्ष पवन कुमार, सचिव ओमप्रकाश राजेरां, कोषाध्यक्ष हंसराज सारस्वा कपुरीसर, हीरालाल सारस्वा रुणिया बड़ा बास, महावीर सांखी, रामकिशन मोट, देवेन्द्र सारस्वत, वैद्य ओमप्रकाश गौड़, किसनलाल सारस्वत शेरेरां, रघुवीर उपाध्याय, महावीर प्रसाद सारस्वत, रामनिवास तावनियां, मोनिका गौड़, उमेश शर्मा, राजाराम सारस्वा शेरेरां, महेन्द्र सारस्वत बींझासर तथा मूरलीधर गुरावा ने अनिश्चित काल तक के लिए आंदोलन शुरू किया गया है।